दरभंगा एयरपोर्ट का खेल खत्म, मंहगे किरायों ने बढ़ाया पटना का क्रेज।

Uncategorized

दरभंगा एयरपोर्ट जो हर दिन किसी ना किसी वजह से सुर्खियों में बना रहता हैं, उसे लेकर फिर एक खबर सामने आई हैं। बताते चलें कि केंद्र सरकार की महात्वाकांक्षी योजना ‘उड़ान’ उड़ेगा देश का आम नागरिक, के तहत दरभंगा एयरपोर्ट से हवाई सेवा चालू की गई थी। हवाई सेवा चालू होने होने के बाद आम से खास लोग तक फ्लाइट में सफर करने का आनंद उठा रहे थे। वहीं दूसरी ओर दरभंगा एयरपोर्ट ने उड़ान योजना के तहत चालू हुए सभी एयरपोर्ट को पछाड़कर अधिक यात्रियों के मामले में एक नया रिकॉर्ड कायम किया था।

एयरलाइंस ने मचाई लूट

परन्तु इसे मिथिला के लिए दुर्भाग्य ही कहेंगे कि दरभंगा एयरपोर्ट ने जिस तरह अधिक यात्रियों के सफर को लेकर रिकॉर्ड बनाया था, वहीं दूसरी ओर फ्लाइट टिकट के दाम में बेहताशा वृद्धि ने लोगों के होश उड़ा दिए हैं। दरअसल दीपावली और छठ पर्व को लेकर घर आने वाले यात्रियों को हवाई जहाज का सफर करने के लिए भारी-भरकम पैसे खर्च करने पड़ रहे हैं। यात्रियों की पर्व-त्योहार में आने वाली भीड़ का फायदा एयरलाइंस कंपनियां जमकर उठा रही हैं।

अब तक का सर्वाधिक किराया

बताते चलें कि दीपावली से पहले 22 अक्टूबर को मुंबई और हैदराबाद से दरभंगा का किराया 29 हजार रूपए को पार कर गया हैं। इस दिन दरभंगा आने वाले यात्रियों को प्रति टिकट 29180 रूपए खर्च करने पड़ रहे हैं। मालूम हो कि दरभंगा एयरपोर्ट जब से चालू हुआ हैं, तब से लेकर अब तक का यह सबसे अधिक किराया हैं। 21 से 29 अक्टूबर तक हैदराबाद से दरभंगा का टिकट 29455 रूपया हैं। वहीं 22 अक्टूबर को दिल्ली से दरभंगा का किराया 20156, बेंगलुरु से दरभंगा का किराया 17326 रूपया हैं। यात्री दरभंगा के बजाय पटना को तरजीह देने लगे हैं।

दरभंगा के बजाय पटना को तरजीह

जानकारी के लिए बता दें कि पिछले साल दिल्ली से दरभंगा का किराया 17 हजार तक सर्वाधिक था। बढ़ते हवाई किराए ने यात्रियों के सफर को बोझिल बना दिया हैं। यात्रियों में इसको लेकर आक्रोश हैं। दरभंगा एयरपोर्ट से हवाई सेवा संचालित करने वाली एयरलाइंस कंपनियों पर अगर लगाम ना लगाया गया, तो फ्लाइट बंद करने की स्थिति आ सकती हैं। लोग अधिक किराया खर्च करने के बजाय पटना से हवाई सफर को तरजीह देने लगे हैं।

फ्लाइट की संख्या आधी

दरभंगा एयरपोर्ट से हवाई सफर करने वाले लोगों को उड़ान योजना का लाभ नहीं मिल रहा हैं। मालूम हो कि दरभंगा एयरपोर्ट से दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु रूट पर सबसे अधिक यात्रियों की भीड़ होती हैं। भीड़ को लेकर एयरलाइंस ने इस रूट पर दो-दो विमानों के परिचालन की सुविधा बहाल की थी। परंतु वर्तमान में इस रूट पर एक ही विमान का संचालन किया जा रहा हैं, जिससे यात्रियों का दवाब बढ़ने के साथ टिकटों का दाम आसमान छूने लगा हैं। दरभंगा एयरपोर्ट से 16 विमानों के आने-जाने का शेड्यूल हैं, पर वर्तमान में 8-10 विमानों का परिचालन हो रहा हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.