दरभंगा को मिली स्पेशल ट्रेन, यात्रियों को उपलब्ध होगी ट्रेन में सभी सुविधाएं।

Darbhanga

दरभंगा समेत मिथिलांचल के यात्रियों को स्वदेश दर्शन स्पेशल ट्रेन की सौगात मिली हैं, जो यात्रियों को सभी महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों का दर्शन कराएगी। इसके बारे में विस्तार से बताते चलें कि आईआरसीटीसी पहली बार बिहार से स्वदेश दर्शन यात्रा की शुरुआत करने जा रही हैं। IRCTC ने स्वदेश दर्शन स्पेशल ट्रेन से ग्यारह दिनों में यात्रियों को महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों का दर्शन कराने का खाका तैयार किया हैं।

इन तीर्थ स्थलों का दर्शन

यह ट्रेन 10 अक्टूबर को दरभंगा जंक्शन से शाम 04 बजे खुलेगी, जो मुजफ्फरपुर में रूकने के बाद सीधे पाटलिपुत्र स्टेशन पर रूकेगी। जिसके बाद उज्जैन में महाकालेश्वर, ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग, द्वारका में द्वारकाधीश मंदिर, नागेश्वर ज्योतिर्लिंग, सोमनाथ में सोमनाथ ज्योतिर्लिंग, शिरडी में साईं दर्शन, शनि शिंगणापुर और नासिक में त्र्यंबकेश्वर ज्योर्तिलिंग का दर्शन कराते हुए 20 अक्टूबर को लौट आएगी। श्रद्धालुओं की यह पूरी यात्रा 10 रात और 11 दिनों की होगी।

ये सारी सुविधाएं होगी उपलब्ध

स्वदेश दर्शन स्पेशल ट्रेन में स्लीपर क्लास कोच के साथ 3 एसी कोच हैं। वहीं ट्रेन की हरेक कोच में सिक्योरिटी गार्ड और टूरिस्ट गाइड मौजूद रहेंगे, जो तीर्थ स्थलों की विशेषताओं के बारे में यात्रियों को बतायेंगे। ट्रेन में साफ-सफाई और सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के इंतजाम किए गए हैं। ट्रेन में शाकाहारी भोजन, पानी की बोतल के साथ घूमने के लिए बस, रहने के लिए होटल की व्यवस्था की गई हैं।

स्वदेश दर्शन स्पेशल ट्रेन में यात्रा के लिए बुकिंग शुरू

इसके साथ ही बता दें कि स्वदेश दर्शन स्पेशल ट्रेन में समस्तीपुर के श्रद्धालुओं के लिए विशेष तौर पर इंतजाम किए गए हैं। उनके लिए बस से दरभंगा या मुजफ्फरपुर से बोर्डिंग की व्यवस्था की हैं। वहीं इस ट्रेन में अगर ग्रुप बुकिंग किया जाता हैं तो प्रत्येक व्यक्ति 500 रूपए की छूट दी जाएगी। रेलवे की ओर से मिल रही सब्सिडी के तहत स्लीपर क्लास का किराया 18450 और 3-एसी का 29620 रूपए रखा गया हैं। आईआरसीटीसी ने स्वदेश दर्शन स्पेशल ट्रेन की बुकिंग शुरू शुरू कर दी हैं। कुल मिलाकर कहा जाए तो ट्रेन में भजन-कीर्तन और पूजा-पाठ के साथ खाने-पीने से लेकर ठहरने और घुमाने का बेहतर व्यवस्था होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.