DMCH दरभंगा में मरीजों के साथ आने वाले परिजनों को राहत, रहने और खाने-पीने की मिलेगी सुविधा।

Bihar Darbhanga Desh Uncategorized

उत्तर बिहार का प्रमुख अस्पताल डीएमसीएच में आने वाले मरीजों के परिजनों के लिए राहत की खबर हैं। बताते चलें कि डीएमसीएच में भर्ती मरीजों के परिजन को काफी समस्याएं उठानी पड़ती हैं, जिसमें खाना और रहना उनकी सबसे बड़ी परेशानी थी। लेकिन अब जल्द ही ये समस्या दूर होने वाली हैं। दरअसल डीएमसीएच दरभंगा के परिसर में पावर ग्रिड विश्राम सदन बनकर तैयार हो गया हैं।

इसमें मरीज के परिजनों को कम पैसों में बेड आसानी से उपलब्ध होगा, वहीं इसके साथ ही ठंड के मौसम में गर्म पानी और सस्ते दर पर खाना भी उपलब्ध कराया जाएगा। खाना के बारे में जानकारी मिल रही हैं कि कम पैसों में बेहतर खाना मिलेगा। मालूम हो कि डीएमसीएच में दूर-दराज के जिलों से लोग इलाज को पहुंचते हैं। जहां मरीज के परिजनों को रहने और खाने-पीने के लिए काफी दिक्कतें उठानी पड़ती थी। बेड नहीं रहने से फर्श पर सोने की मजबूरी थी।

डीएमसीएच परिसर में पावर ग्रिड विश्राम सदन बनकर तैयार हैं। बताते चलें कि विश्राम गृह डोरमेट्री सिस्टम से लैस किया गया हैं। इसमें 04 और 08 बेड वाला कमरा हैं। इसमें फार्मेसी के शौचालय की व्यवस्था के साथ भोजनालय की भी व्यवस्था की गई हैं। इसमें लोगों को कम रेट पर भोजन मिलेगा। वहीं विश्राम सदन वाले कैंपस में लाइटिंग की बेहतर व्यवस्था की गई हैं जिससे रात में भी आने के दौरान किसी भी तरह की परेशानी से दो-चार ना होना पड़े।

डीएमसीएच के पावर ग्रिड विश्राम सदन में कुल 56 रूम बनाए गए हैं। वहीं इसमें बेड की संख्या 260 हैं। बताते चलें कि कमरे को बेड के हिसाब से बांटा गया हैं। 08 बेड वाले 09 कमरे और 04 बेड वाले 47 कमरे हैं। इसमें 25 शौचालय बनाए गए हैं जिसमें महिला और पुरुष के लिए 10-10 शौचालय हैं। वहीं दिव्यांग के लिए अलग से 05 शौचालय बनाए गए हैं। इन सब के साथ एक किचन की व्यवस्था के साथ दो लिफ्ट और एक दवा दुकान भी हैं।

डीएमसीएच में आने वाले मरीजों के परिजन को 70 रूपए बेड के हिसाब से सारी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी। कुल मिलाकर कहा जा सकता हैं कि बाहर से आने वाले मरीजों के परिजनों को इधर-उधर भटकने से राहत मिलेगी। विश्राम सदन बन जाने से लोगों की दो बड़ी समस्या रहने तथा खाने-पीने की तकलीफ हल हो जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.