खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना निर्माण कार्य सालों बाद भी अधूरा, रेल परिचालन ख्वाबों में।

Bihar Darbhanga

खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना निर्माण कार्य सालों बाद भी अधूरा हैं। जी हां, इस परियोजना के तहत खगड़िया से अलौली तक 05 मई को ट्रेन दौड़ाकर ट्रायल किया गया तो लोगों के मन में आशा की किरण जागी थी रेल परिचालन का। लेकिन यह सपना, सपना बनकर ही रह गया। केंद्र सरकार की महात्वाकांक्षी खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना की स्वीकृति वर्ष 1998 में मिली थी, लेकिन पिछले 19 सालों में खगड़िया-कुशेश्वरस्थान के बीच निर्माण कार्य इतनी धीमी हैं, जो अब तक परवान नहीं चढ़ सका हैं।

ट्रायल के बाद जागी थी उम्मीद

खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना को पूरा करने के लिए जिस सुस्त गति से निर्माण कार्य चल रहा हैं, उस पर ट्रेन दौड़ने का ख्वाब फिलहाल ख्वाब ही दिख रहा हैं। आखिर इस मार्ग पर कब दौड़ेगी ट्रेन, जिसका सपना लोग देख रहे हैं। मई माह में ट्रायल के तहत ट्रेन चलाई गई थी। उस समय रेलवे अधिकारियों द्वारा जल्द ही खगड़िया से करौली तक मालगाड़ी चलाने की बात कही गई थी। लेकिन इतने दिन बीत जाने के बाद भी इस पर कोई मालगाड़ी नहीं चली हैं।

खगड़िया से अलौली गढ़ तक ही काम पूरा

जानकारी के मुताबिक अलौलीगढ़ से कुशेश्वरस्थान तक निर्माण कार्य रूका पड़ा हैं। नदियों में पानी अधिक होने के कारण मिट्टी नहीं मिल रही हैं। नदियों का जलस्तर कम होने के बाद आगे का काम शुरू किया जाएगा। बता दें कि इस रूट में कोसी, करेह, कमला और बागमती नदियां पड़ती हैं। अलौली गढ़ से आगे का कार्य कई और कारणों से रूका हुआ हैं। जिसमें आगे के मार्ग का सर्वे कार्य पूरा नहीं होना भी बताया जा रहा हैं। खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना की स्वीकृति मिलने के इतने सालों बाद भी अभी तक पूरी नहीं हो पाई हैं। इतने दिनों में खगड़िया से अलौली गढ़ तक केवल 19 किलोमीटर तक ही रेल की पटरी बिछाने और उसके मेंटेनेंस का काम पूरा किया जा सका हैं।

दोनों जिलों की दूरी होगी कम

जानकारी के लिए बता दें कि खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना 44 किलोमीटर की हैं, जिसे 162 करोड़ की लागत से शुरू किया गया था। वहीं रेल परियोजना की अंतिम स्वीकृत लागत 614.45 करोड़ रुपए हैं। इस परियोजना के पूरे होने का लाखों लोग बाट जोह रहे हैं। इससे खगड़िया के अलौली समेत दरभंगा के कई इलाकों को सीधे तौर पर लाभ होगा। रेल परियोजना पूरी होने से दरभंगा और खगड़िया की दूरी कम हो जाएगी। जिससे लोगों को आवागमन में सुविधा होगी। वर्तमान में लोगों को खगड़िया से दरभंगा के बीच करीब 200 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.